बकरी पालन सब्सिडी : बकरी पालन पर मिलेगा 90 फीसदी अनुदान

बकरी पालन सब्सिडी  : बकरी पालन पर मिलेगा 90 फीसदी अनुदान

Published Date - 25 Nov 2021

हरियाणा पशुपालकों के लिए बड़ी खुशखबरी, बकरीपालन करने वाले किसानों को 90% अनुदान

हमारे देश में छोटे तबके के लोगों के लिए बकरीपालन एक प्रमुख व्यवसायों में से एक है। ज्यादातर ग्रामीण क्षेत्रों में बकरी पालन एक प्रमुख व्यवसाय है, बकरी को गरीबों की गाय भी कहा जाता है। बकरी पालन में अन्य किसी भी पशु पालन की अपेक्षा काफी कम लागत होता है। चारा की आवश्यकता भी कम होती है। यदि सूखा भी पड़ जाए या फिर कोई भी प्राकृतिक आपदा जैसे बाढ़ भी आए तो बकरी पालन को ज्यादा असर नहीं करता, इसकी देखभाल महिलाएं बच्चे सभी कर सकते हैं और बकरी के रख रखाव के लिए भी बडा इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं चाहिए होते हैं, इसके अतिरिक्त बकरी पालन के लिए किसी तकनीकी जानकारी की भी आवश्यकता नहीं है चूंकि बकरी पालन का मुख्य उद्देश्य मांस का उत्पादन है तो दूध बढ़ने घटने की भी टेंशन नहीं रहती और मांस की मांग तो मार्केट में लगातार ऊंचे दरों पर बनी रहती है। 

स्थानीय स्तर पर मार्केट भी बड़ी ही आसानी से प्राप्त हो जाते हैं, गावों में तो अक्सर बकरी खरीदने के लिए बिचौलिए घूमते ही रहते हैं। बिचौलिए घर आकर बकरे बकरी खरीद कर जाते हैं।लाखों करोड़ों किसान के आजीविका का मुख्य स्रोत बकरी पालन है और यह लाभकारी व्यवसाय भी है। इसे देखते हुए सरकार ने बकरीपालकों के लिए कई तरह के मदद की घोषणा कर रही है।

क्या है बकरीपालन सब्सिडी योजना?

हरियाणा में बकरी पालक किसानों को सरकार द्वारा आर्थिक सहायता देने के लिए एवं बकरीपालन को प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए सरकार द्वारा बकरीपालन पर सब्सिडी प्रदान की जायेगी। हरियाणा सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में पशुपालन को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा 90% का अनुदान दिया जा रहा है। पशुपालक आसानी से बकरी पालन पर लोन भी प्राप्त कर सकते हैं। बकरीपालन पर लोन लेने के लिए किसान नाबार्ड को भी संपर्क कर सकते हैं।

बकरी पालन से आमदनी

दूध और मांस की मांग बाजार में काफी होती है। यही वजह है कि बकरीपालक किसान काफी अच्छा मुनाफा इस बिजनेस के माध्यम से कमा पा रहे हैं। बकरी पालन के लिए सरकारी मदद भी दी जा रही है। जिससे किसान अतिरिक्त मुनाफा जनरेट कर पा रहे हैं। बकरी पालन करने के लिए किसान के निम्न खास बातों का ध्यान रखना होगा।

  • आपके पास पर्याप्त स्थान होना चाहिए।

  • बकरी के लिए चारे की आवश्यकता होती है।

  • ताजा पानी आदि चीजों की आवश्यकता होती है।

बकरी पालन पर लोन और सब्सिडी कैसे मिलेगा?

जब भी आप बकरी पालन के लिए ऋण लेंगे वो चाहे बैंक से हो अथवा नाबार्ड के तहत तो उसमे भी आपको 90% का अनुदान प्राप्त होगा।

एसबीआई से बकरी पालन ऋण

अगर आप एसबीआई के ग्राहक हैं तो आपके लिए एसबीआई से बकरी पालन ऋण लेना बहुत आसान है। अगर आप भी एसबीआई वाणिज्यिक बकरी पालन के लिए आवश्यकता अनुसार ऋण लेते हैं। तो आपको बेहद कम ब्याज दर पर ये ऋण प्राप्त हो जाता है अधिक जानकारी के लिए अपने नजदीकी एसबीआई ब्रांच जरूर विजिट करें।

नाबार्ड के तहत ऋण

अगर आप हरियाणा से हैं तो नाबार्ड के तहत बकरी पालन हेतु ऋण प्राप्त करना बहुत आसान है। अगर देश के अन्य हिस्सों से भी हैं तो कोई बात नहीं …. नाबार्ड के तहत आपको क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, वाणिज्यिक बैंक, ग्रामीण विकास बैंक, राज्य सहकारी बैंक, शहरी बैंक आदि ऋण दे सकते हैं। नाबार्ड का मुख्य फोकस देश के छोटे किसानों को आर्थिक सहायता प्रदान कर उन्हें आगे बढ़ाने का है। नाबार्ड विभिन्न वित्तीय संस्थान की सहायता से किसान बकरी पालन ऋण देता है। इतना ही नहीं नाबार्ड के तहत बकरी पालन ऋण पर सब्सिडी का भी प्रावधान है। ओबीसी एवं सामान्य वर्ग के किसानों को बकरीपालन लोन पर 25% की सब्सिडी प्रदान की जाती है। वहीं अनुसूचित जनजाति वर्ग के किसानों को बकरी पालन के लोन पर 33% की सब्सिडी मिलेगी। 

बकरी पालन पर कितनी होगी कमाई?

15 से 18 बकरियों का पालन करने से किसान प्रति वर्ष 2 लाख रुपए तक कमाई कर सकते हैं। अगर आप मेल वर्जन का पालन करें तो ये मुनाफा 2 लाख रुपए तक हो सकता है।

ट्रैक्टरफर्स्ट हर माह मैसी फर्ग्यूसन ट्रैक्टर व सॉलिस ट्रैक्टर कंपनियों सहित अन्य कंपनियों की मासिक सेल्स रिपोर्ट प्रकाशित करता है। ट्रैक्टर्स सेल्स रिपोर्ट में ट्रैक्टर बिक्री की थोक, खुदरा, राज्यवार, जिलेवार, एचपी के अनुसार जानकारी दी जाती है। साथ ट्रैक्टरफर्स्ट आपको रिपोर्ट की मासिक सदस्यता भी प्रदान करता है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

ट्रैक्टर इंडस्ट्री के अपडेट जानने के लिए आप हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें -  https://www.youtube.com/c/TractorFirst

TractorFirst Google News

Related News

Read this also

Cancel

New Tractors

Implements

Harvesters