ई-श्रम कार्ड रजिस्ट्रेशन : लाखों श्रमिकों के खाते में पैसे पहुंचे, आप भी कराएं रजिस्ट्रेशन

ई-श्रम कार्ड रजिस्ट्रेशन : लाखों श्रमिकों के खाते में पैसे पहुंचे, आप भी कराएं रजिस्ट्रेशन

Published Date - 14 Jan 2022

यूपी में सीएम योगी ने श्रमिकों के खातों में डाले 500-500 रुपये 

देश में कोई भी व्यक्ति यदि असंगठित क्षेत्र में काम कर रहा है और वह श्रमिक की श्रेणी में आता है तो उसे वर्तमान में केंद्र सरकार की सबसे महत्वपूर्ण योजना ई-श्रम पोर्टल योजना में बिना देर किए रजिस्ट्रेशन करवा लेना चाहिए। पंजीयन कराने के बाद आवेदक को ई-श्रम कार्ड जारी हो जाता है। इसके आधार पर लाभार्थी के खाते में केंद्र अथवा राज्य सरकार की ओर से कोराना काल या अन्य किसी देशव्यापी संकट के दौरान सहायता राशि आ सकती  है। यह सहायता राशि गरीब श्रमिकों के लिए काफी संबल प्रदान करती है। आइए जानते हैं ई-श्रम पोर्टल योजना के क्या-क्या लाभ हैं और इसमें पंजीयन के लिए क्या पात्रता रखी गई है। 

अब तक 20 करोड़ से अधिक ई -श्रम रजिस्ट्रेशन     

ई-श्रम पोर्टल पर पंजीयन के लिए इन दिनों भारी क्रेज बना हुआ है। जो लोग वाकई गरीब है और अभी तक इस योजना में अपना पंजीयन नहीं करवा पाए हैं वे भी इसमें रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। यहां यह भी बता दें कि जिन राज्यों में विधानसभा चुनाव की घोषणा हो चुकी है और आचार संहिता लग गई है वहां ई श्रम योजना में पंजीयन बंद हो गए हैं। पिछले दिनों उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्येन्द्र नाथ ने चुनाव घोषणा जारी होने से पहले ई-श्रम कार्ड धारी श्रमिकों के खातों में 500-500 रुपये की सहायता राशि डाल दी थी। इसके बाद तो जैसे पूरे देश में ही ई-श्रम कार्ड बनवाने के लिए होड़ लग गई। केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक अब तक पूरे देश में 20 करोड़ 16 लाख से भी अधिक लोगों ने ई-श्रम पोर्टल पर पंजीयन करवाया है। 

ई-श्रम कार्ड क्या है? 

बता दें कि केंद्र सरकार की ओर से गरीब और मेहनतकश उन लोगों के लिए यह योजना शुरू की है जो सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं ले पा रहे थे। इसके लिए सरकार ने केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्रालय के मार्फत ई-श्रम पोर्टल पर श्रमिकों के पंजीयन के लिए विशेष अभियान चला रखा है। इसमें 38 करोड़ ई-श्रम पंजीयन का लक्ष्य रखा गया है। ई-श्रम पोर्टल पर पंजीयन के बाद एक कार्ड जारी होता है इसे ही ई-श्रम कार्ड कहा जाई-श्रमता है। यह सरकार का डेटाबेस है। इसके आधार पर लाभार्थी संबंधित सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का लाभ लेने के लिए आवेदन कर सकता है। वहीं पंजीकृत ई-श्रमिक को सरकारी सहायता राशि भी उसके बैंक खाते में डाली जा सकती है। 

इनको ई-श्रम कार्ड जारी नहीं हो सकता 

ई-श्रम पोर्टल योजना में रजिस्ट्रेशन की जो पात्रता रखी गई हैं उनमें ऐसे किसान यह कार्ड नहीं बनवा सकते जिनके पास अपनी जमीन है। वहीं जो आयकर रिटर्न भरते हैं  या किसी सरकार या अद्र्धसरकारी विभाग और उपक्रम में काम करते हैं तो वे भी इस योजना का लाभ नही ले सकते।  कुल मिला कर किसी भी संगठित क्षेत्र में कार्यरत व्यक्ति ई-श्रम पोर्टल पर पंजीयन नहीं करवा सकता। 

ये हैं ई-श्रम कार्ड बनवाने के असली हकदार 

ई- श्रम कार्ड बनवाने के लिए किसी विशेष प्रमाण की जरूरत नहीं है। बस आप या आपके आसपास जो भी व्यक्ति  छोटा-मोटा ऐसा काम करता हो जिससे उसकी आजीविका चल रही हो लेकिन वह आयकर दाता नहीं हों। इस तरह के श्रमिकों में खेत मजदूर, घरेलू नौकर या नौकरानी, खाना बनाने वाली, कुक, ट्यूटर, सफाईकर्मी, गार्ड, ब्यूटीपार्लर, नाई, मोची, दर्जी, बढ़ई, प्लंबर, बिजली उपकरण ठीक करने वाला, रंग-पेंट करने वाला, ईंट भट्टा मजदूर, चाट-ठेला संचालक, वेटर, रिसेप्सनिस्ट , दुकान का नौकर, हॉकर, ऑटो ड्राइवर, पंक्चर लगाने वाला, मूर्तिकार आदि इसी श्रेणी के लोग ई-श्रम कार्ड बनवा सकते हैं। 

कैसे कराएं पंजीयन 

ई-श्रम कार्ड बनवाने के लिए ई-श्रम पोर्टल पर सबसे पहले अपना रजिस्टे्रशन कराना जरूरी होता है। इसके लिए सीएससी सेंटर पर जाकर वहां ई-श्रम पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर आपको अपना आधार कार्ड,भामाशाह कार्ड, बैंक खाते की पासबुक और मोबाइल नंबर देने होंगे। इनकी एंट्री होने पर आपको मोबाइल पर आए ओटीपी को दर्ज करना है।  इसके बाद शेष जानकारी भरनी है, वहीं अपना फोटो भी अपलोड करें। अब प्रक्रिया पूरी होने  पर आपका ई-श्रम कार्ड जारी हो जाएगा। 

ई-श्रम कार्ड से ये मिलते हैं फायदे 

  • केंद्र सरकार की ई-श्रम कार्ड योजना में कौन-कौन से फायदे मिल सकते हैं इसकी जानकारी होना भी आवश्यक है। यदि ये जानकारी ई-श्रम कार्ड धारी श्रमिकों को रहेगी तो वे जागरूक होंगे और सरकारी योजनाओं को फायदा ले सकेंगे। यहां  ई-श्रम कार्ड पर मिलने वाली सुविधाएं या इसके लाभ बताए जा रहे हैं जो इस प्रकार हैं-: 

  • इस योजना में सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि इसमें कामगार को किसी प्रकार का प्रीमियम देने की जरूरत नहीं होती। 

  • योजना के तहत श्रमिकों  को 2 लाख रुपये तक का दुर्घटना बीमा दिया जाता है। 

  • लाभार्थियों को भविष्य में सरकार द्वारा पेंशन भी दी जा सकती है। 

  • सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत लाभार्थी के खाते में सरकार सहायता राशि डाल सकती है। 

  • गर्भवती महिलाओं को बच्चों के भरण-पोषण के लिए सरकार निर्धारित राशि प्रदान करती है। 

  • इसके अलावा मकान बनवाने के लिए भी सहायता राशि मिल सकती है। 

  • बच्चों की पढ़ाई के लिए भी सहायता दी जाएगी। 

  • यदि किसी दुर्घटना में श्रमिक की मृत्यु हो जाती है या पूर्ण विकलांगता की स्थिति होती है तो उसे दो लाख रुपये की बीमा राशि मिलती है वहीं घायल होने पर 1 लाख रुपये मिलेंगे। 

ट्रैक्टरफर्स्ट हर माह सोनालिका ट्रैक्टर व सामे ड्यूज फार ट्रैक्टर  कंपनियों सहित अन्य कंपनियों की मासिक सेल्स रिपोर्ट प्रकाशित करता है। ट्रैक्टर्स सेल्स रिपोर्ट में ट्रैक्टर बिक्री की थोक, खुदरा, राज्यवार, जिलेवार, एचपी के अनुसार जानकारी दी जाती है। साथ ट्रैक्टरफर्स्ट आपको रिपोर्ट की मासिक सदस्यता भी प्रदान करता है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

ट्रैक्टर इंडस्ट्री के अपडेट जानने के लिए आप हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें -  https://www.youtube.com/c/TractorFirst

Website     -   TractorFirst.com
Instagram  -   https://bit.ly/3h0j9jE
FaceBook  -   https://bit.ly/3yF7AnV

TractorFirst Google News

Related News

Read this also

Cancel

New Tractors

Implements

Harvesters