गति शक्ति योजना : अब बढ़ेगी विकास की गति, बुनियादी ढांचे में होंगे सुधार

गति शक्ति योजना : अब बढ़ेगी विकास की गति, बुनियादी ढांचे में होंगे सुधार

पीएम मोदी ने लांच की गति शक्ति योजना, जानें किसानों को क्या मिलेगा फायदा

भारत जैसे विकासशील देशों की अवसंरचना में सुधार लाना ही विकसित होने की तरफ पहला कदम है। अगर बुनियादी ढांचे विकसित न हो तो विकास की कल्पना भी नहीं की जा सकती। बुनियादी ढांचे के विकास से देश के विकास को भी गति मिलता है। सरकार ने 15 अगस्त को ही इस योजना की घोषणा कर दी थी। योजना के अंतर्गत वायुमार्ग, जलमार्ग, बंदरगाहों, राजमार्ग से संबंधित सभी बुनियादी ढांचे को विकसित करने का प्रयास होगा।

क्या है पीएम गति शक्ति योजना?

पीएम मोदी ने गति शक्ति मल्टी मॉडल कनेक्टिविटी के लिए मास्टर प्लान तैयार कर लिया है। इस परियोजना के तहत सड़कों का व्यापक निर्माण किया जाएगा। राजमार्ग, वायुमार्ग, जलमार्ग के सभी बुनियादी ढांचे दुरुस्त किए जाएंगे। बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के तहत ज्यादा से ज्यादा लागत को कम किया जा सकेगा। भारत में विकसित देशों की अपेक्षा ट्रांसपोर्ट लागत काफी अधिक है। सड़कें छोटी-छोटी होने की वजह से अक्सर माल जाम में फंस जाता है। जिससे व्यापारी हो अथवा किसान उन्हें भारी नुकसान पहुंचता है। इन सभी निर्माण एवं मरमत कार्यों में तेजी लाने के लिए इस योजना की शुरुआत हुई है। 

पीएम गति शक्ति योजना के लाभ

  • ज्यादा से ज्यादा रेलवे ट्रैक का बिजलीकरण हो पाएगा।

  • मेट्रो रेल एवं बुलेट ट्रेन के क्षेत्र में कार्य होगा।

  • रोड ट्रांसपोर्ट में एक बड़ा नेटवर्क जोड़ा जाएगा।

  • 100 लाख करोड़ रुपए के बुनियादी ढांचे पर कार्य होंगे।

पीएम गति शक्ति योजना के उद्देश्य

  • आधारभूत संरचना का विकास

  • गांव और शहर को ज्यादा बेहतर ढंग से रोड से जोड़ना।

  • ज्यादा से ज्यादा विनिर्माण कार्य करना ताकि अर्थव्यवस्था को बल मिले।

  • यातायात में सुधार हों।

कार्य प्रगति पर है का बोर्ड लग जाता था पर काम अटका ही रह जाता था

पीएम मोदी ने योजना की लांचिंग करते हुए कहा है कि अब सिस्टम में पूरी तरह बदलाव की जरूरत है। पहले अधिकारी कार्य प्रगति पर है का बोर्ड तो लगा देते थे पर काम अटका ही रह जाता था। इसी लापरवाही की वजह से प्रोजेक्ट पूरा करने में काफी देरी का सामना करना पड़ता था। और अभी भी इस सिस्टम की वजह से सरकारों के करोड़ों रुपए का दुरुपयोग होता था। 

सतत विकास के लिए जरूरी है गुणवत्तापूर्ण अवसंरचना

अक्सर ग्रामीण क्षेत्रों में देखा जाता है कि अवसंरचना का बेहद अभाव होता है। कई जगह कच्ची सड़कें आदि की वजह से ग्रामीण लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। विभिन्न कार्यों के लिए उन्हें अतिरिक्त व्यय भी करना पड़ता है। जिससे किसानों के लागत में वृद्धि आ जाती है। पीएम मोदी ने कहा है हम अगले 25 वर्षों के भारत की बुनियाद रखते हुए आगे बढ़ेंगे। देश को तब तक के लिए बुनियादी संरचना के लिए आत्मनिर्भर करने की ओर आगे बढ़ेंगे। आज इक्कीसवीं सदी का भारत पुरानी सरकारी व्यवस्थाओं को नहीं झेलेगी। गौरतलब है कि सतत विकास हेतु जरूरी है कि ज्यादा से ज्यादा गुणवत्तापूर्ण इन्फ्रास्ट्रक्चर निर्माण हो। जिससे कई सारी आर्थिक गतिविधियों को आसानी से किया जा सके।

ट्रैक्टरफर्स्ट हर माह कुबोटा ट्रैक्टर व एस्कॉर्ट ट्रैक्टर कंपनियों सहित अन्य कंपनियों की मासिक सेल्स रिपोर्ट प्रकाशित करता है। ट्रैक्टर्स सेल्स रिपोर्ट में ट्रैक्टर बिक्री की थोक, खुदरा, राज्यवार, जिलेवार, एचपी के अनुसार जानकारी दी जाती है। साथ ट्रैक्टरफर्स्ट आपको रिपोर्ट की मासिक सदस्यता भी प्रदान करता है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

ट्रैक्टर इंडस्ट्री के अपडेट जानने के लिए आप हमारे हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें -  https://bit.ly/3DN8jHq

Website     -   TractorFirst.com
Instagram  -   https://bit.ly/3h0j9jE
LinkedIn    -   https://bit.ly/3BDzORV
FaceBook  -   https://bit.ly/3yF7AnV

Cancel

New Tractors

Implements

Harvesters