हॉलो मिक्स Halo Mix : अब बंजर जमीन पर होगी भरपूर पैदावार, यह दवा करेगी कमाल

हॉलो मिक्स Halo Mix : अब बंजर जमीन पर होगी भरपूर पैदावार, यह दवा करेगी कमाल

जैविक दवा हॉलो मिक्स के प्रयोग से ऊसर / बंजर जमीन बनेगी उपजाऊ, किसानों को मिलेगा फायदा

देश के किसानों को आर्थिक रूप से समृद्ध बनाने के लिए अनेक योजनाएं संचालित है। देश के कृषि वैज्ञानिक भी नई-नई किस्मों की खोज कर रहे हैं जिससे कम पानी में ज्यादा पैदावार हो सके। कई तरह के कृषि यंत्र भी बाजार में उपलब्ध हैं जो किसानों के श्रम, समय और पैसे की बचत करते हैं। अब किसानों के लिए एक नई खुशखबरी सामने आई है। अब किसान अपनी बंजर जमीन में भी भरपूर पैदावार कर सकेंगे। कृषि वैज्ञानिकों ने एक ऐसी जैविक दवा की खोज की है जिसके प्रयोग से बंजर या ऊसर जमीन उपजाऊ बनेगी। उत्तरप्रदेश के कई जिलों में इस दवा हॉलो मिक्स (Halo Mix) का सफल प्रयोग हो चुका है और अब यह दवा जल्द ही अन्य किसानों को उपलब्ध होगी। मिट्टी के ऊपयोगी जीवाणुवओं से भरी 100 मिलीलीटर की एक शीशी एक एकड़ जमीन के लिए काफी होती है।

हॉलो मिक्स (Halo Mix): ऊसर या बंजर जमीन पर संभव होगी खेती

एक रिपोर्ट के मुताबिक देश में उपजाऊ भूमि लगातार कम हो रही है और बंजर भूमि में इजाफा हो रहा है। लेकिन बंजर भूमि को उपजाऊ बनाने के लिए हॉलो मिक्स (Halo Mix) जैविक दवा अब किसानों को आसानी से मिल सकेगी। इस दवा को बनाने वाले वैज्ञानिकों का दावा है कि इसके उपयोगी से ऊसर जमीन पर धान, गेहूं या सब्जियों की खेती आसानी से संभव हो सकेगी। इस जैव फॉर्मूलेशन हॉलो मिक्स (Halo Mix) को देश के अधिक से अधिक किसानों तक पहुंचाने के लिए आईसीएआर (ICAR) ने इसके व्यवसायिक उत्पादन के लिए हैदराबाद की एक कंपनी को अधिकार दिए हैं। आपको बता दें कि ऊसर या बंजर ऐसी भूमि होती है, जिसमें लवणों की अधिकता होती है। (विशेषकर सोडियम लवणों की अधिकता)।  ऐसी भूमि में शून्य या बहुत कम उत्पादन होता है।

देश में 67 लाख हेक्टयर भूमि ऊसर, जैविक दवा के उपयोग से अब होगी खेती

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ स्थिति आईसीएआर (ICAR) के संस्थान केन्द्रीय मृदा लवणता अनुसंधान संस्थान (Central Soil Salinity Research Institute) के आंकड़ों के अनुसार देश में करीब 67 लाख हेक्टेयर भूमि लवणग्रस्त है। उत्तरप्रदेश, बिहार, गुजरात, पश्चिम बंगाल सहित दक्षिण भारत के कई राज्यों के लिए यह एक बड़ी समस्या है। सिर्फ उत्तर प्रदेश में लगभग 13.7 लाख हेक्टेयर भूमि ऊसर या बंजर है। सीएसएसआरआई के वैज्ञानिक कुछ सालों से ऊसर भूमि पर पैदावार के लिए अनुसंधान में जुटे हुए हैं। इस अनुसंधान केंद्र के वैज्ञानिकों ने कुछ साल पहले लवण सहिष्णु पौध वृद्धक जीवाणुओं की खोज की थी। इस जैव फॉर्मूलेशन को 2015-16 से उत्तरप्रदेश के ऊसर मिट्टी वाले कई जिलों में इस्तेमाल किया जा रहा था, जिसके अच्छे परिणाम सामने आए। वैज्ञानिकों का दावा है कि इस जैव फॉर्मूलेशन के उपयोग से ऊसर जमीन में धान-गेहूं के साथ ही सब्जियों की अच्छी पैदावार हुई। इस जैव फॉर्मूलेशन हॉलो मिक्स को ज्यादा से ज्यादा किसानों तक पहुंचाने के लिए आईसीएआर ने इसके व्यवसायिक उत्पादन के लिए हैदराबाद की एक कंपनी को तकनीकी ट्रांसफर की है।

जानें, हॉलो मिक्स (Halo Mix) की खासियत 

जैव फॉर्मूलेशन (हॉलो मिक्स) की खोज करने वाली वैज्ञानिक की टीम के सदस्य डॉ.संजय अरोड़ा ने हॉलो मिक्स के फायदे बताए हैं। डॉ. अरोड़ा के अनुसार भारत में ऊसर भूमि (लवणगस्त भूमि) बड़ी समस्या है। ऐसी जमीन में जो फसलें बोई जाती हैं, उनका सही रिजल्ट सामने नहीं आता है।  लवण पौधों की जड़ों के आसपास जमा हो जाते हैं, जिससे पौधों को पानी और अन्य दूसरे पोषक तत्व नहीं मिल पाते और पौधे सूख जाते हैं। हॉलो मिक्स में ऐसे जीवाणु हैं जो इस लवण को जड़ों के पास नहीं आने देते और पौधे को पोषण भी देते हैं। जिससे फसल अच्छी पैदा होती है। ऊसर भूमि को सामान्यत: खनिज जिप्सम के साथ जैविक संशोधन के उपयोग से सुधारा जाता है। हालांकि सभी किसानों को ये जिप्सम मिल नहीं पाता, दूसरे धरती में खनिज जिप्सम की उपलब्धता भी लगातार कम हो रही है। लगातार एक जैसी फसल लेने और रासायनिक उर्वरकों और कीटनाशकों के उपयोग से मिट्टी की सेहत लगातार गिर रही है। इससे ज्यादा खाद-बीज, उर्वरक काम आ रहे हैं और उत्पादन भी कम हो रहा है।

Halo Mix का ऐसे करें प्रयोग

हॉलो मिक्स (Halo Mix) का ऊसर या बंजर भूमि में प्रयोग सफल रहा है। इसकी मदद से ऊसर भूमि पर धान, गेहूं, सरसों, बैंगन आदि की खेती की प्रयोग के रूप में की गई और अच्छी पैदावार हुई। गुजरात और पश्चिम बंगाल के कई जिलों में इसका प्रयोग सफल रहा है। कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार 100 मिलीमीटर लवण सहिष्णु जीवाणु की एक शीशी एक एकड़ जमीन के लिए पर्याप्त है। किसान इसे एक एकड़ भूमि के बीज को शोधित करने अथवा 40 किलो गोबर में मिलाकर भूमि शोधन के लिए खेत में छिडक़ाव कर सकते हैं। इस जैव कल्चर के वैक्टीरिया अपने आप बढ़ते जाते हैं और भूमि को फसल योग्य बनाते हैं।

ट्रैक्टरफर्स्ट हर माह मैसी फर्ग्यूसन ट्रैक्टर व न्यू हॉलैंड ट्रैक्टर कंपनियों सहित अन्य कंपनियों की मासिक सेल्स रिपोर्ट प्रकाशित करता है। ट्रैक्टर्स सेल्स रिपोर्ट में ट्रैक्टर बिक्री की थोक, खुदरा, राज्यवार, जिलेवार, एचपी के अनुसार जानकारी दी जाती है। साथ ट्रैक्टरफर्स्ट आपको रिपोर्ट की मासिक सदस्यता भी प्रदान करता है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

ट्रैक्टर इंडस्ट्री के अपडेट जानने के लिए आप हमारे हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें -  https://bit.ly/3DN8jHq

Website     -   TractorFirst.com
Instagram  -   https://bit.ly/3h0j9jE
LinkedIn    -   https://bit.ly/3BDzORV
FaceBook  -   https://bit.ly/3yF7AnV

Cancel

New Tractors

Implements

Harvesters