सरसों का भाव : सभी रिकॉर्ड तोड़ 225 रुपए प्रति लीटर पहुंचा सरसों तेल का रेट

सरसों का भाव : सभी रिकॉर्ड तोड़ 225 रुपए प्रति लीटर पहुंचा सरसों तेल का रेट

सरसों तेल के भाव में आई है बड़ी तेजी, उपभोक्ताओं के पहुंच से बाहर हो रही सरसों तेल

सरसों के तेल के भाव में बड़ी तेजी देखने को मिल रही है। थोक मंडी में तेल के रेट में 5 से 8 रुपए की तेजी देखने को मिल रही है। मंडियों में तेल का रेट 178 रुपए प्रति लीटर से 185 रुपए प्रति लीटर एक पहुंचा है। जबकि फूटकर में 190 रुपए से 198 रुपए लीटर तक भाव पहुंच गया है। वहीं अगर मिलों पर सरसों तेल का रेट जानें तो 225 रुपए प्रति लीटर तेल का रेट पहुंच चुका है। सरसों का तेल मिलों पर खरीदना ज्यादा पसंद करते हैं क्योंकि यहां किसान से सीधे सरसों की खरीद करके तेल निकाला जाता है, जिससे शुद्धता रहती है। बाजार के तेल में, डिब्बे वाले तेल में मिलावट देखने को मिलती है।

आम लोगों के पहुंच से दूर होती जा रही सरसों

सरसों को रसोई में कितनी अहमियत है ये हम सब जानते हैं। ऐसे में सरसों के तेल की कीमतों में वृद्धि होना आम आदमी के राहत की खबर नहीं है। मध्यम वर्गीय एवं गरीब लोगों के दैनिक खर्चे प्रभावित हो रहे हैं। वहीं अन्य उत्पाद की बात करें तो चीनी के भाव/चीनी के कीमतों में भी वृद्धि देखी जा रही है। तिलहन में सोयाबीन तेल की कीमतें/ सोयाबीन तेल का भाव भी बढ़ रही है। सोयाबीन तेल प्रति लीटर 15 रूपए की बढ़ोतरी हासिल की है।

लगातार बढ़ रही सरसों/ पाम ऑयल/ रिफाइंड तेल का भाव

खाद्य तेल की कीमतों में लगातार वृद्धि हो रही है। बढ़ती कीमतों से लोगों के रसोई का बजट गड़बड़ा रहा है। सरसों तेल, रिफाइंड और पाम ऑयल के रेट की बात करें तो जनवरी से लगातार कीमतों में वृद्धि देखी जा रही है। दामों में बीच-बीच में गिरावट भी आई लेकिन फिर यह अब तक सबसे उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है। जून के अंत में करीब 20 से 26 रूपये प्रति लीटर दाम में गिरावट आ गई थी। कुछ दिनों बाद फिर से दाम में तेजी देखने को मिली।

देश को खाद्य तेलों के मामले में आत्मनिर्भर बनाने का चलाया जा रहा अभियान

सरसों की खेती राजस्थान, बिहार, उत्तरप्रदेश, झारखंड, ओडिशा, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, उत्तराखंड, हरियाणा आदि राज्यों में प्रमुखता से की जाती है। बिहार में सरसों का उत्पादन काफी किया जाता है। लेकिन फिर भी सरसों का रकवा घटने की वजह से अब सरसों का तेल अपने घरेलू मांग को भी पूरा नहीं कर पा रहा है। देश को खाद्य तेलों के मामले मे आत्मनिर्भर बनाने के मोदी सरकार का मिशन जारी है। खाद्य तेल उत्पादन करने वाली फसलों को बढ़ावा दिया जा रहा है। कई राज्यों में सरसों की खेती के लिए मुफ्त बीज भी दिया जा रहा है। 

क्यों बढ़ रहा सरसों तेल का भाव?

गोरखपुर के सिधारीपुर के जनरल स्टोर के कारोबारी मोहम्मद जावेद बताते हैं, कि सरसों तेल में अन्य खाद्य तेलों के मिश्रण पर रोक लगा दिया गया है। मिश्रण पर रोक की वजह से कीमतें बढ़ती जा रही है। सरसों कि आवक बहुत कमजोर है जिस वजह से मांग बढ़ती ही जा रही है। पिछले साल की अपेक्षा रेट दोगुनी हो चुकी है। अब तो मध्यम वर्गीय लोग रिफाइंड और सरसों के तेल को छोड़कर पाम तेल खरीद रहे हैं जो अपेक्षाकृत सस्ता होता है।

किराना दुकानदारों पर भी पड़ रहा असर

किराना दुकानदार शंभू गुप्ता बताते हैं कि कीमतें बढ़ने से दुकानदारों पर भी व्यापक असर पर रहा है। ग्राहकों को लगता है कि दुकानदार ही कीमतें बढ़ा रहे हैं। लेकिन कीमतें जितनी भी बढ़ रही है दुकानदारों का मुनाफा कम हो रहा है। कई बार तो ग्राहकों को संतुष्ट करने के लिए तेल खरीद का भी बिल उन्हें दिखाना पड़ता है। खाद्य तेल जैसे सरसों का भाव, सोयाबीन का भाव, मूंगफली, सूरजमुखी के रेट में वृद्धि तो हो ही रही है। साथ ही देसी घी, चीनी,नमक आदि के रेट में भी उछाल आया है।

सरसों की खेती का समय/ सरसों की खेती कैसे करें?

  • 5 अक्टूबर से 25 अक्टूबर बुआई

  • 1 एकड़ खेत में 1 किलो बीज की आवश्यकता होती है।

सरसों की खेती से कमाई

सरसों की मांग में तेज वृद्धि देखने को मिल रही है। अगर इस समय किसान सरसों की खेती करें तो निश्चित ही उन्हें सरसों की खेती से बंपर कमाई होगी। 

ट्रैक्टरफर्स्ट हर माह प्रीत ट्रैक्टर व वीएसटी ट्रैक्टर कंपनियों सहित अन्य कंपनियों की मासिक सेल्स रिपोर्ट प्रकाशित करता है। ट्रैक्टर्स सेल्स रिपोर्ट में ट्रैक्टर बिक्री की थोक, खुदरा, राज्यवार, जिलेवार, एचपी के अनुसार जानकारी दी जाती है। साथ ट्रैक्टरफर्स्ट आपको रिपोर्ट की मासिक सदस्यता भी प्रदान करता है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

ट्रैक्टर इंडस्ट्री के अपडेट जानने के लिए आप हमारे हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें -  https://bit.ly/3DN8jHq

Website     -   TractorFirst.com
Instagram  -   https://bit.ly/3h0j9jE
LinkedIn    -   https://bit.ly/3BDzORV
FaceBook  -   https://bit.ly/3yF7AnV

Cancel

New Tractors

Implements

Harvesters